खुशी happiness motivational

 

 खुशी happiness

जीवन मे खुशी के पांच मूलमंत्र

हमेशा औपचारिक  न बने

जरूरत से ज्यादा औपचारिकता आदमी को नीरस बनाती है इसलिए खुद को सरल  और सहज रखे ।स्वाभाविकता के साथ जीना सीखे।हमे  तनाव औऱ  डिप्रैशन क्यों होता है क्योंकि हम आत्मीयता के साथ जीना भूल रहे है  इसकी वजह औपचारिकता है।

   अच्छे काम करे

बहता हुआ पानी  पत्थर को भी घिस सकता है।तो आप अच्छे काम के लिए निरंतर प्रयास क्यों नही कर सकते।
 सकारात्मक रहे
नदी का  बहना चाँद सूरज का रोज निकलना उनका स्वभाव है उनसे सीखते हुए खुद को पोसेटिव रखे। खुश रहना और हर घटना में खुद की भलाई देखने का स्वभाव बना ले।जो चीज़ स्वभाव में आ जाती हद फिर आपको कोई दुखी नही कर सकता।: इन देशों से सीखे
भारत से ह्यूमन  वैल्यू ,अमेरिका से मार्केटिंग टेक्निक ,जापान से टीम  वर्क ओर यु के से डिसेंसी सीखे।
 बड़ा दृष्टिकोण  रखे
जब  कभी भी आपको ये लगे कि गलत हो रहा है या इच्छाएं पूरी नही हो रही तो इस बात पर भरोसा करे कि जो बेस्ट है वही मेरे साथ होगा इसके लिए बड़ा दृष्टिकोण रखे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *