पुरानी यादें – Hindi Kavita

                                                                                   पुरानी यादें 
 
 
हां कहाँ  जाती हैं पुरानी यादें 
वापस नहीं आती 
पर रहती हैं हर पल आँखों के सामने 
छत पर पुराने सीलिंग फैन की तरह 
लटकी रहती हैं 
हां ठहरे हुए पानी की तरह सड़ती हैं 
पुरानी  यादेँ 
अटकती हैं श्वास रात भर राते गुजरती हैं मुश्किल से 
कहा जाती हैं पुरानी यादेँ। 
रिसती रहती हैं ताउम्र 
तड़पाती हैं करती हैं बेचैन 
न ऊगली जाती हैं 
न निगली। 
एक नासूर बन जाती हैं 
पुरानी  यादें 
नश्तर सी चुभती हैं दिल के 
किसी कोने में 
पुरानी यादे। 
हां कंहा जाती हैं ये 
पुरानी  यादेँ 

Other Poems : www.neerakikalamse.com


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *