मतदान अधिकार ही नहीं कर्त्तव्य भी हे | voting India

मतदान अंधकार ही नहीं कर्त्तव्य भी हे 

 
 
जहाँ तक महिलाओ की बात है  वो अपने जनप्रतिनिधि को निर्भीक ओर निष्पक्ष होकर मतदान करे किसी के दवाब में न आये स्वतंत्र रूप से निर्णय ले क्या वी जिस नेता की चुन रहा है वो उनकी आवाज बनेगा उनकी समस्या का समाधान करेगा ।महिलाओ की  तकलीफ में उनके साथ खड़ा होगा । महिलाओ के सम्मान और अधिकार के लिए क्या कुछ कर पायेगा इसलिए महिलाए अपने मत का प्रयोग स्वविवेक ओर निष्ठा से करे।
 
अजातशत्रु की पंक्तिया
 
ये गठबंधन की राजनीति है 
ये ठगबंधन की राजनीति है
दिया कही का कही की बाती है
अरे  ऎसे थोड़ी ज्योति 
जलाई जाती है
दिनकर ने माना कलम
वही दोहराती है 
सिंघासन खाली करी की 
जनता अब आती है 
 
 
जितने भी अधिकार हम भारतीयों को मिले है उनमें सबसे बड़ा अधिकार मतदान का है एक बड़ी ताकत है हमारे पास 
अच्छी सरकार बनाने की नेता चुनने की जनता को आगे आना होगा बदलाव के लिए।
 
[: मतदान अधिकार ही नही कर्तव्य भी
 
ऐसे नेता को चुने जो आगे की सोचने वाला हो।सकारत्मक दृष्टिकोण हो एक नई सोच और विजन हो।समाज और रष्टा को नई दिशा देने वाला हो
: मतदाता जाति और धर्म के आधार पर मतदान न करे। न किसी प्रलोभन में आकर मतदान करे
neera jain jaipur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *