प्यारा है जीवन

 

 

भी छांव कभी धूप सा जीवन
 पर लगे न्यारा न्यारा यह जीवन
 कभी तपती रेत सा
 कभी कलकल बहती नदी सा
फिर भी लगे यह जीवन प्यारा
कभी प्यार का सैलाब
कभी खुशियों की सौगात
कभी नफरत की दीवार पर
लगे हैं यह जीवन  प्यारा प्यारा
कोई ना जान कर भी सब कुछ कुदरत ने धरती पर बिखेरा यह प्यार
 जान लेता है ऐसा है जीवन
 कुछ पल का है यह जीवन
कब गुजर जाए पता ही नहीं
जियो ऐसे कि लाजवाब बन
 जाए यह जीवन शायद फिर
 मिले ना यह जीवन
कुछ पल का है यह जीवन
कब गुजर जाए पता ही नहीं
 कभी छांव कभी धूप का जीवन
पर लगे प्यारा ये जीवन
neera  jain jaipur