मैं तुमको समझ पायी न तुम मुझको समझ पाए

   फिर भी मुहब्बत ठहरी है दरमियाँ अजब इतेफ़ाक़ है.

 

 

 

 

 

shayri