सफर 

सफर रुकने का नाम नहीं लेती Hindi Poem
ये कैसा सफर हैं चलती ही जाती हु। 

ये कैसा सफर

आगे की और,
रुकने का नाम नहीं लेती 
सब कुछ पीछे छोड़त

 हुई जाती हु। 

 ये कैसा सफर
कुछ याद आता हैं तो बस 
अधूरे ख्वाब 
पिता  का आँगन 
अपनों  का प्यार 
दोस्तों  की मीठी यादे,

                                                          एकअनकही दासता 

                                                               वो गुनगुनी धुप। 

                                                            फूलो की मुस्कान

 पंछियो की चहचहाट। 
अब तो रह गई मेरे पास 
केवल मुट्ठी भर धुल। 
 अब तो चलती ही जाती हु 
आगे की  और। 

नीरा जैन