उदासियां

 उदासियों की आदत होती है
 बिन बुलाए आने की और
 अनाधिकृत कब्जा जमाने की
उदासियां घर कर लेती है
मन के कोनों में
खामोश रहकर इनके पैरों
की आहट
नहीं होती एक बार
आने के बाद
ही पैर पसार ती।है
और फैल जाती है
हर जगह बारिश की बूंदों में ,
संगीत की धुनों पर बिस्तर
की सलवटो पर
और डायरी। के पन्नों पर भी,
 उदासियां छा जाती है
उदासियां बात नहीं करती
 अपने साथ लाती है ,
खामोशियां केवल खामोशियां
neerajain