award | neera jain. व्यक्तित्व  सम्मान समारोह  साहित्य गतिविधि हिंदी कविता

award | neera jain. व्यक्तित्व सम्मान समारोह साहित्य गतिविधि हिंदी कविता

हिंदी कविता मैंने निचोड़कर दर्द मन को मानो सूखने के खयाल से रस्सी पर डाल दिया है और मन सूख रहा है बचा-खुचा दर्द जब उड़ जायेगा तब फिर पहन लूँगा मैं उसे है बहुत अंधियार अब सूरज निकलना चाहिए जिस तरह से भी हो ये मौसम बदलना चाहिए रोज़ जो चेहरे बदलते है लिबासों की तरह अब...
गोपालदास नीरज|कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे

गोपालदास नीरज|कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे

                                                                गोपालदास नीरज कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे। गोपाल दास नीरज के निधन पर हार्दिक श्रद्धांजलि। गोपालदास नीरज (जन्म: 4 जनवरी 1925), हिन्दी साहित्यकार, शिक्षक एवं कवि सम्मेलनों के मंचों पर काव्य वाचक एवं...