Hindi Shayri

एक जज्बा जागा है मुझ में हिम्मत आ गई है सोचती हूं

जाकर कह दो सबसे अब अकेली नहीं हूं मैं तन्हाई से दोस्ताना है मेरा