कविता की डोर राजस्थान की ओर  काव्य गोष्टी |साहित्य गतिविधि

कविता की डोर राजस्थान की ओर  काव्य गोष्टी |साहित्य गतिविधि

कविता की डोर राजस्थान की ओर  काव्य गोष्टी कविता में के भावों को अभिव्यक्त करती है ।कविता एक सवाल खड़ा करती है कवि मन बहुत संवेदनशील होता है वो समाज मे जो भी अच्छाई या बुराई देखता है वो अपनी संवेदनाओं को  कविता के माध्यम से अभिव्यक्त करता है  कायाकल्प  सहित्यक  संस्थान...
मंज़िले|हिंदी कविता

मंज़िले|हिंदी कविता

मंज़िले हर लम्हा मै  सफलता औऱ विफलता के  मध्य झूलती रहती हूं जीवन विफलताओं से भरा हैं सफलता जब भी मेरे निकट आई मैं स्वयं ही उससे दूर हो गई। मन में थी एक बैचैनी साथ मे कई सवाल क्या मुझे सिर्फ सफल बनना है बनानी है अपनी पहचान  लोग जिसे कहते विफलता  मंज़िले वही मेरे लिये...
नारी कमजोर नहीं Hindi Poem Women Empowerment

नारी कमजोर नहीं Hindi Poem Women Empowerment

नारी कमजोर नहीं नारी कमजोर नहीं न ही कम है कर रही निरंतर सधंर्ष है। उठने के लिए बढ़ने के लिए आसमान छूने के लिये  अपनी पहचान बनाने  जूझ रही है अभाव की आधियों के थपेडों से  अपनो क तानों से गैरौ की तीखी चुभती भूखी नजरों से, वो लड़ती है जूझती है लड़खड़ाती है गिरती है और...
रिश्ते हैं अनमोल | Hindi Kavita

रिश्ते हैं अनमोल | Hindi Kavita

    रिश्ते हैं अनमोल,इनमे हमेशा प्यार रहे। प्यार का इतना ही  हो मोल,की विश्वास रहे। रिश्तों में अगर रखो अकड़, तो टूट जातें हैं ये। झुक जाने से फलदार और रिश्तों के आँगन में बहार रहें। क़रीब भी इतना रहो कीं इसमें प्यार रहें। दूर इतना रहो की, आने का इंतज़ार रहे।। रिश्ते...
तुम्ही कहो  – Hindi Poem

तुम्ही कहो – Hindi Poem

  तुम्ही कहो    तुम किसी को कुछ भी कहो किसी को डाँटो प्यार करो पर मैं कुछ न बोलू फिर कैसे जियु तुम्हीं  कहो। समाज की विसंगतिया कब होगी समाप्त कब मिलेगी नारी को सुरक्षा सामान रूप से जीने का अधिकार तुम्ही कहो रेत  होता अस्तित्व कब लेगा सुन्दर आकार तुम्ही कहो . एक उम्मीद...