नारी कमजोर नहीं Hindi Poem Women Empowerment

नारी कमजोर नहीं Hindi Poem Women Empowerment

नारी कमजोर नहीं नारी कमजोर नहीं न ही कम है कर रही निरंतर सधंर्ष है। उठने के लिए बढ़ने के लिए आसमान छूने के लिये  अपनी पहचान बनाने  जूझ रही है अभाव की आधियों के थपेडों से  अपनो क तानों से गैरौ की तीखी चुभती भूखी नजरों से, वो लड़ती है जूझती है लड़खड़ाती है गिरती है और...
बच्चो के साथ बिताये खुशी के पल 

बच्चो के साथ बिताये खुशी के पल 

बच्चो के साथ बिताये खुशी के पल   च्चो के साथ बिताये खुशी के पल कुछ महीने पहिले जे पी सर की क्लासेस में फूटपाथ पर रह रहे बच्चो के साथ कुछ पल बिताने काअवसर मिला। उमंग ओट उत्साह से भरपूर ये बच्चे दुनिया से एकदम बेपरवाह हँसते मुस्कुराते।वाकई में लगा ये बच्चे कितने...

पुरानी यादें – Hindi Kavita

                                                                                   पुरानी यादें      हां कहाँ  जाती हैं पुरानी यादें  वापस नहीं आती  पर रहती हैं हर पल आँखों के सामने  छत पर पुराने सीलिंग फैन की तरह  लटकी रहती हैं  हां ठहरे हुए पानी की तरह सड़ती हैं ...
आओ दिवाली मनायें – Hindi Poem

आओ दिवाली मनायें – Hindi Poem

आओ दिवाली मनायें  हम नेह के दीप जलायें  चाँद को अपने दरवाजे  पर सजाये।  छत पर चमकते तारो का  चिराग जलायें।  आओ दिवाली मनायें  इस जँहा को रोशन बनाये  आओ दिवाली मनाये।  हम सब मिलकर उम्मीदों के  दीप  जलायें  कुछ अपनों के संग  आज  दिवाली  मनाये।  इस सुन्दर धरा पर खुशियों...
हिंदी कविता  – मुझे चाहिए सारा जँहा – Hindi Poetry

हिंदी कविता – मुझे चाहिए सारा जँहा – Hindi Poetry

                                                          हिंदी कविता  मुझे चाहिए सारा जँहा                 एक छोटा सा  घर नहीं   मुझे चाहिये सारा जँहा  ये वृक्ष समूह  झरनो से घिरी हुई  पूरी धरती  समंदर की  चंचल लहरों   का  प्यारा सा साथ  गहराई समुन्द्र सी  मुझे...