मुस्कान |खुशियाँ बिखेरती हूँ  सपने सजाती हूँ।Hindi Poem  motivational

मुस्कान |खुशियाँ बिखेरती हूँ  सपने सजाती हूँ।Hindi Poem motivational

मुस्कान    हाँ मुझे मिलता हैं तब सुकूँ जब किसी के दर्द भरे चेहरे पर मुस्कान लाती हूँ मैं । खुशियाँ बिखेरती हूँ  सपने सजाती हूँ। मुस्कान लाती हूँ मैं । neera jain...
मंज़िले|हिंदी कविता

मंज़िले|हिंदी कविता

मंज़िले हर लम्हा मै  सफलता औऱ विफलता के  मध्य झूलती रहती हूं जीवन विफलताओं से भरा हैं सफलता जब भी मेरे निकट आई मैं स्वयं ही उससे दूर हो गई। मन में थी एक बैचैनी साथ मे कई सवाल क्या मुझे सिर्फ सफल बनना है बनानी है अपनी पहचान  लोग जिसे कहते विफलता  मंज़िले वही मेरे लिये...

पुरानी यादें – Hindi Kavita

                                                                                   पुरानी यादें      हां कहाँ  जाती हैं पुरानी यादें  वापस नहीं आती  पर रहती हैं हर पल आँखों के सामने  छत पर पुराने सीलिंग फैन की तरह  लटकी रहती हैं  हां ठहरे हुए पानी की तरह सड़ती हैं ...
आओ दिवाली मनायें – Hindi Poem

आओ दिवाली मनायें – Hindi Poem

आओ दिवाली मनायें  हम नेह के दीप जलायें  चाँद को अपने दरवाजे  पर सजाये।  छत पर चमकते तारो का  चिराग जलायें।  आओ दिवाली मनायें  इस जँहा को रोशन बनाये  आओ दिवाली मनाये।  हम सब मिलकर उम्मीदों के  दीप  जलायें  कुछ अपनों के संग  आज  दिवाली  मनाये।  इस सुन्दर धरा पर खुशियों...
हिंदी कविता  – मुझे चाहिए सारा जँहा – Hindi Poetry

हिंदी कविता – मुझे चाहिए सारा जँहा – Hindi Poetry

                                                          हिंदी कविता  मुझे चाहिए सारा जँहा                 एक छोटा सा  घर नहीं   मुझे चाहिये सारा जँहा  ये वृक्ष समूह  झरनो से घिरी हुई  पूरी धरती  समंदर की  चंचल लहरों   का  प्यारा सा साथ  गहराई समुन्द्र सी  मुझे...